सारे जहाँ से अच्छा Sare Jahan Se Achha Hindustan Hamara Lyrics

sare jahan se achha
Love To Share

Sare Jahan Se Achha Hindustan Hamara was formally known as “Tarānah-e-Hindi” is an Urdu language. Patriotic song Sare Jahan Se Achha Lyrics written by Muhammad Iqbal. This poem was published in the weekly journal Ittehad on 16 August 1904.

Song Title/गाना : सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा Sare Jahan Se Achha Hindustan Hamara
Lyrics Writer/गीतकार: Muhammad Iqbal

सारे जहाँ से अच्छा लिरिक्स Sare Jahan Se Acha Lyrics in Hindi

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी ये गुलसिताँ हमारा
हमारा..

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी ये गुलसिताँ हमारा
हमारा..
सारे जहाँ से अच्छा…

ग़ुर्बत में हों अगर हम, रहता है दिल वतन में
समझो वहीं हमें भी दिल हो जहाँ हमारा

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
हमारा..
सारे जहाँ से अच्छा…

परबत वह सबसे ऊँचा, हम्साया आसमाँ का
परबत वह सबसे ऊँचा, हम्साया आसमाँ का
वह संतरी हमारा.. वह पासबाँ हमारा..
हमारा..

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
हमारा..
सारे जहाँ से अच्छा…

गोदी में खेलती है.. इसकी हज़ारों नदियाँ
गोदी में खेलती है.. इसकी हज़ारों नदियाँ
गुल्शन है जिनके दम से, रश्केजनां हमारा
हमारा..

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
हमारा..
सारे जहाँ से अच्छा…

मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना
मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना
हिन्दी हैं हम… हिन्दी हैं हम.. हिन्दी हैं हम..
वतन हैं.. हिन्दोसिताँ हमारा.. हमारा..

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी ये गुलसिताँ हमारा
हमारा..
सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
हमारा..
सारे जहाँ से अच्छा…

Sare Jahan Se Acha Lyrics in English

Advertisement

Sare jahan se accha hindostan hamara
Sare jahan se accha hindostan hamara
Hum bulbulein hain iski
Ye gulsitaan hamara Hamara..

Sare jahan se accha hindostan hamara
Sare jahan se accha hindostan hamara
Hum bulbulein hain iski
Ye gulsitaan hamara Hamara..
Sare jahan se accha

Ghurbat mein hon agar hum
Rahta hai dil vatan mein
Samjho wahin hume bhi dil hon jahan hamara

Sare jahan se accha hindostan hamara
Hamara..
Sare jahan se accha

Parbat woh sabse uncha, hamsaya aasman ka
Parbat woh sabse uncha, hamsaya aasman ka
Woh santari hamara, woh pasban hamara..
Hamara..

Sare jahan se accha hindostan hamara
Hamara..
Sare jahan se accha

Godi mein khelti hain, iski hazaron nadiyaan
Godi mein khelti hain, iski hazaron nadiyaan
Gulshan hai jinke dam se rashk-e-janaa hamara
Hamara..

Sare jahan se accha hindostan hamara
Hamara..
Sare jahan se accha

Mazhab nahin sikhata aapas mein bair rakhna
Mazhab nahin sikhata aapas mein bair rakhna
Hindi hai hum, Hindi hai hum
Hindi hai hum, watan hain
Hindostan hamara, hamara..
Sare jahan se accha hindostan hamara
Hum bulbulein hain iski
Ye gulsitaan hamara Hamara..
Sare jahan se accha hindostan hamara
Hamara..
Sare jahan se accha

FAQ's

सवाल: सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा के रचयिता कोन हैं ?
जवाब: मुहम्मद इकबाल सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा के रचयिता हैं |


Love To Share