Sambhala Hai Maine Lyrics in Hindi – Naaraaz | Kumar Sanu

sambhala hai maine lyrics
Love To Share

Sambhala Hai Maine Lyrics from Naaraaz movie. Sung by Kumar Sanu. Anu Malik composed the music. Song is picturised on Atul Agnihotri and Sonali Bendre.

Song Credits:
Song Title/गाना: संभाला है मैने Sambhala Hai Maine
Movie: नाराज Naaraaz
Singer/गायक: कुमार सानु Kumar Sanu
Music Director/संगीतकार: अनु मलिक Anu Malik
Lyrics Writer/गीतकार: कतील शिफाई Qateel Shifai
Star casts/अभिनीत किरदार: Mithun Chakraborty, Pooja Bhatt, Atul Agnihotri, Gulshan Grover, Soni Razdan, Avtar Gill, Sonali Bendre, Kunal Khemu
Music Label: Tips Official

संभाला है मैने हिंदी लिरिक्स Sambhala Hai Maine Lyrics in Hindi

(संभाला है मैने बहोत अपने दिल को)-2
ज़ुबान पर तेरा फिर भी नाम आ रहा है
जहाँ राज कोई छुपाया ना जाए
मुहब्बत में ऐसा मकाम आ रहा है

संभाला है मैने बहोत अपने दिल को
संभाला है मैने बहोत अपने दिल को
ज़ुबान पर तेरा फिर भी नाम आ रहा है
संभाला है मैने बहोत अपने दिल को

बनाया है मैने तुझे अपना साथी
रहे किस तरह फिर मेरे होश बाकी
हो ओ बनाया है मैने तुझे अपना साथी
(रहे किस तरह फिर मेरे होश बाकी)-2

है ये नज़र यू बेहकने लगी है की जैसे
नज़र यू बेहकने लगी है की जैसे
मेरे सामने कोई जाम आ रहा है

संभाला है मैने बहोत अपने दिल को
ज़ुबान पर तेरा फिर भी नाम आ रहा है
जहाँ राज कोई छुपाया ना जाए
मुहब्बत में ऐसा मकाम आ रहा है
संभाला है मैने बहोत अपने दिल को

ये ज़ुल्फो के बादल घनेरे घनेरे
मेरे बाज़ुओं पर जो तूने बिखेरे
हो ओ ये ज़ुल्फो के बादल घनेरे घनेरे
(मेरे बाज़ुओं पर जो तूने बिखेरे)-2

(मैं समझा की जैसे, मेरी धड़कनो को)-2
तेरी धड़कनो का पयाम आ रहा है

संभाला है मैने बहोत अपने दिल को
ज़ुबान पर तेरा फिर भी नाम आ रहा है
जहाँ राज कोई छुपाया ना जाए
मुहब्बत में ऐसा मकाम आ रहा है
संभाला है मैने बहोत अपने दिल को

Sambhala Hai Maine Bahut Apne Dil Ko Lyrics

Advertisement

(Sambhaala hai maine bahot apne dil ko)-2
Juban par tera phir bhi naam aa raha hai
Jahan raaz koi chhupaya na jaye
Muhabbat mein aisa mukaam aa raha hai

Sambhaala hai maine bahot apne dil ko
Sambhaala hai maine bahot apne dil ko
Juban par tera phir bhi naam aa raha hai
Sambhaala hai maine bahot apne dil ko

Banaya hai maine tujhe apna sathi
Rahe kis tarah phir mere hosh baki
Ho..O.. Banaya hai maine tujhe apna sathi
Rahe kis tarah phir mere hosh baki

Hai ae nazar yun behakne lagi hai ki jaise
Nazar yun behakne lagi hai ki jaise
Mere samne koi jaam aa raha hai

Sambhaala hai maine bahot apne dil ko
Juban par tera phir bhi naam aa raha hai
Jahan raaz koi chhupaya na jaye
Muhabbat mein aisa mukaam aa raha hai
Sambhaala hai maine bahot apne dil ko

Ye zulfo ke badal ghanere-ghanere
Mere bajuon par jo tune bikhere
Ho..O.. Ye zulfo ke badal ghanere-ghanere
(Mere bajuon par jo tune bikhere)-2

(Mai samjha ki jaise meri dhadkano ko)-2
Teri dhadkano kaa payaam aa raha hai

Sambhaala hai maine bahot apne dil ko
Juban par tera phir bhi naam aa raha hai
Jahan raaz koi chhupaya na jaye
Muhabbat mein aisa mukaam aa raha hai
Sambhaala hai maine bahot apne dil ko


Love To Share