अपनी आज़ादी को हम लिरिक्स Apni Azadi Ko Hum Lyrics Hindi

apni azadi ko hum lyrics
Love To Share

Patriotic Song Apni Azadi Ko Hum Lyrics from Leader Movie. Sung By Mohammad Rafi. Picturised on Dilip Kumar.

Song Title/गाना : अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं Apni Azadi Ko Hum Hargiz Mita Sakte Nahi 
Singer/गायक: मोहम्मद रफ़ी Mohammad Rafi
Movie : लीडर Leader(Year-1964)
Music Director/संगीतकार: नौशाद अली Naushad Ali
Lyrics Writer/गीतकार: शकील बदायुनी Shakeel Badayuni
Star casts/अभिनीत किरदार: Dilip Kumar,Vyjayantimala

अपनी आज़ादी को हम लिरिक्स Apni Azadi Ko Hum Lyrics in Hindi

अपनी आज़ादी को, हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
अपनी आज़ादी को, हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं, लेकिन सर झुका सकते नहीं
सर झुका सकते नहीं

हमने सदियों में, ये आज़ादी की नेमत, पाई है
हमने ये नेमत, पाई है
सैकड़ों क़ुरबानियाँ देकर, ये दौलत पाई है
हमने ये दौलत पाई है

मुस्कराकर खाई है, सीनों पे अपने गोलियाँ
सीनों पे अपने गोलियाँ
कितने वीरानों से गुज़रे हैं, तो जन्नत पाई है
ख़ाक में हम अपनी इज़्ज़त को, मिला सकते नहीं
अपनी आज़ादी को, हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं

क्या चलेगी ज़ुल्म की, अहले वफ़ा के, सामने
अहले वफ़ा के, सामने
आ नहीं सकता कोई, शोला हवा के सामने
शोला हवा के सामने

(लाख फ़ौजें लेके आये अमन का, दुश्मन कोई)-2
रुक नहीं सकता हमारी, एकता के सामने
हम वो पत्थर हैं, जिसे दुश्मन हिला सकते नहीं

Advertisement

अपनी आज़ादी को, हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं, लेकिन सर झुका सकते नहीं
सर झुका सकते नहीं

वक़्त की आवाज़ के, हम साथ चलते जाएंगें
हम साथ चलते जाएंगें
हर क़दम पर ज़िंदगी का
रुख़ बदलते जाएंगें
हम रुख़ बदलते जाएंगें

गर वतन में भी मिलेगा कोई गद्दारे वतन
जो कोई गद्दारे वतन
अपनी ताक़त से हम उसका सर कुचलते जाएंगें
एक धोखा खा चुके हैं और खा सकते नहीं

अपनी आज़ादी को, हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
बन्दे मातरम बन्दे मातरम

वक़्त के तूफान में बह जायेंगें जुल्मो सितम
आस्मां पर ये तिरंगा उम्र भर लहरायेंगें..
उम्र भर लहरायेंगें..

जो सबक बापू ने सिख लाया वो भुला सकते नहीं
सर कटा सकते हैं, लेकिन सर झुका सकते नहीं
सर कटा सकते हैं, लेकिन सर झुका सकते नहीं

Sar Kata Sakte Hain Lekin Sar Jhuka Sakte Nahi Lyrics

Advertisement

(Apni azadi ko hum hargij mita sakte nahin)-2
Sir kata sakte hain lekin, sir jhuka sakte nahin
Sir jhuka sakte nahin

Humne sadiyon mein ye azadi ki nemat, payi hai
Humne ye nemat, payi hai
Saikadon Qurbaniyan dekar, ye daulat payi hai
Humne ye daulat payi hai

Muskurakar khayi hai, seeno pe apne goliyaan
Seeno pe apne goliyaan
Kitne wirano se guzre hain, to jannat payi hai
Khak mein hum apani ijjat ko, mita sakte nahin
Apni azadi ko hum hargij mita sakte nahin

Kya chalegi julm kii, ahle wafaa ke samne
Aa nahin sakta koyi, shola hawa ke samne
Shola hawa ke samne

(Lakh fauje leke aye aman ka, dushman koyi
Ruk nahin sakta humari, ekta ke samne
Hum wo patthar hain jise dushman hila sakte nahin

Apni azadi ko, hum hargij mita sakte nahin
Sir kata sakte hain lekin, sir jhuka sakte nahin
Sir jhuka sakte nahin

Waqt ki aawaz ke, hum sath chalte jayenge
Hum sath chalte jayenge
Har kadam par zindagi ka
Rukh badalte jayenge
Hum rukh badalte jayenge

Gar watan mein bhi milega koyi gaddare watan
Jo koyi gaddare watan
Apni taqat se hum uska sir kuchalte jayenge
Ek dhoka kha chuke hain aur kha sakte nahin

Apni azadi ko, hum hargij mita sakte nahin
Vande mataram vande mataram

Hum watan ke naujawan hain, hum se jo takrayega
Hum se jo takrayega
Wo hamari thhokron se khak mein mil jayega
Khak mein mil jayega

Waqt ke tufan mein bah jayenge julmo sitam
Asamaan par ye tiranga umra bhar lahrayegaa..
umra bhar lahrayegaa..

Jo sabak bapu ne sikh laya wo bhula sakte nahin
Sir kata sakte hain lekin, sir jhuka sakte nahin
Sir kata sakte hain lekin, sir jhuka sakte nahin


Love To Share