ऐ अजनबी Ae Ajnabi Tu Bhi Kabhi Lyrics Hindi – Dil Se | Udit Narayan

Ae Ajnabi Lyrics
Love To Share

ऐ अजनबी तू भी कभी लिरिक्स Ae Ajnabi Tu Bhi Kabhi Lyrics from Dil Se movie. Sung by Udit Narayan. A R Rahaman composed the music and lyrics penned by Gulzar. Song is picturised on Shahrukh Khan.

Song Credits:
Song Title/गाना: ऐ अजनबी Ae Ajnabi
Movie/चित्रपट: दिल से Dil Se(Year-1998)
Singer/गायक: उदित नारायण Udit Narayan, महालक्ष्मी अय्यर Mahalaxmi Iyer
Music Director/संगीतकार: ए. र. रहमान A. R. Rahman
Lyrics Writer/गीतकार: गुलज़ार Gulzar
Star casts/अभिनीत किरदार: Shahrukh Khan, Manisha Koirala, Preeti Zinta, Raghuveer Yadav, Piyush Mishra, Sabyachi Chakravarthy, Sanjay Misra, Krisnkant, Aditya Srivastav
Music Label: Venus

Ae Ajnabi Song Lyrics in Hindi

हो पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी…

ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
तू कहीं टुकड़ों में जी रही है
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से

रोज़-रोज़ रेशम सी हवा
आते-जाते केहती है बता
रेशम सी हवा केहती है बता
वो जो दूध धुली मासूम कली
वो है कहाँ, कहाँ है
वो रौशनी कहाँ है
वो जान सी कहाँ है
मैं अधूरा, तू अधूरी जी रही हैं

Advertisement

ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
तू कहीं टुकड़ों में जी रही है
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से

पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी…
पाखी पाखी परदेसी
पाखी पाखी परदेसी…

तू तो नहीं है, लेकिन तेरी मुस्कुराहटें हैं
चेहरा कहीं नहीं है, पर तेरी आहटें हैं
तू है कहाँ, कहाँ है
तेरा निशाँ कहाँ है
मेरा जहाँ कहाँ है
मैं अधूरा तू अधूरी जी रहे हैं

ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
मैं यहाँ टुकड़ों में जी रहा हूँ
तू कहीं टुकड़ों में जी रही है
ऐ अजनबी तू भी कभी आवाज़ दे कहीं से

Ae Ajnabi Song Lyrics in English

Advertisement

Ho paakhi paakhi paradesi
Paakhi paakhi paradesi
Paakhi paakhi paradesi
Paakhi paakhi paradesi..

Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se
Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se
Main yahaan tukdon mein ji raha hun
Main yahaan tukdon mein ji raha hun
Tu kahin tukdon mein ji rahi hai
Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se
Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se

Roj-roj resham si hawaa
Aate jaate kehti hai bataa
Woh jo dudh dhuli maasoom kali
Woh hai kahaan, kahaan hai
Woh roshani kahaan hai
Woh jaan si kahaan hai
Main adhura, tu adhuri ji rahi hain

Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se
Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se
Main yahaan tukdon mein ji raha hun
Main yahaan tukdon mein ji raha hun
Tu kahin tukdon mein ji rahi hai
Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se

Paakhi paakhi paradesi
Paakhi paakhi paradesi
Paakhi paakhi paradesi
Paakhi paakhi paradesi..

Tu to nahin hai, lekin teri muskuraahaten hain
Chehara kahin nahin hai, par teri aahaten hain
Tu hai kahaan, kahaan hai
Tera nishaan kahaan hai
Mera jahaan kahaan hai
Main adhura, tu adhuri ji rahi hai

Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se
Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se
Main yahaan tukdon mein ji raha hun
Main yahaan tukdon mein ji raha hun
Tu kahin tukdon mein ji rahi hai
Ae ajnabi, tu bhi kabhi aawaz de kahin se


Love To Share