जैसे बंजारे को घर Banjare Ko Ghar Lyrics in Hindi – Ek Villain

jaise banjare ko ghar lyrics
Love To Share

Jaise Banjare Ko Ghar Lyrics from Ek Villain movie. Sung by Ankit Tiwari. Lyrics penned by Manoj Muntashir. Song is picturised on Sidharth Malhotra and Shraddha kapoor. Psychological thriller film directed by Mohit Suri and produced by Balaji Motion.

Song Title: जैसे बंजारे को घर Jaise Banjare ko Ghar
Movie: Ek Villain(2014)
Singer: Md. Irfan
Lyricist: Mithoon
Music Director: Mithoon
Star Casts: Sidharth Malhotra, Shradha Kapoor

जैसे बंजारे को घर लिरिक्स Banjare ko Ghar Lyrics in Hindi

जिसे ज़िन्दगी ढूंढ रही है, क्या ये वो मक़ाम मेरा है
यहां चैन से बस रुक जाऊं, क्यों दिल ये मुझे कहता है
जज़्बात नए मिले हैं, जाने क्या असर ये हुआ है
इक आस मिली फिर मुझको, जो क़बूल किसी ने किया है

हां… किसी शायर की ग़ज़ल
जो दे रूह को सुकून के पल
कोई मुझको यूँ मिला है,जैसे बंजारे को घर

नए मौसम की सेहर, या सर्द में दोपेहर
कोई मुझको यूँ मिला है, जैसे बंजारे को घर

जैसे कोई किनारा, देता हो सहारा
मुझे वो मिला किसी मोड़ पर
कोई रात का तारा, करता हो उजाला
वैसे ही रौशन करे, वो शहर

Advertisement

दर्द मेरे वो भुला ही गया
कुछ ऐसा असर हुआ
जीना मुझे फिर से वो सिखा रहा
हम्म.. जैसे बारिश कर दे तर,या मरहम दर्द पर

कोई मुझको यूँ मिला है,जैसे बंजारे को घर
नए मौसम की सेहर,या सर्द में दोपहर
कोई मुझको यूँ मिला है, जैसे बंजारे को घर

मुस्काता ये चेहरा, देता है जो पहरा
जाने छुपाता क्या दिल का समंदर
औरों को तो हरदम साया देता है
वो धुप में है खड़ा ख़ुद मगर
चोट लगी है उसे फिर क्यों
महसूस मुझे हो रहा
दिल तू बता दे क्या है इरादा तेरा

हम्म.. में परिंदा बेसबर, था उड़ा जो दर बदर
कोई मुझको यूँ मिला है, जैसे बंजारे को घर
नए मौसम की सेहर, या सर्द में दोपहर
कोई मुझको यूँ मिला है, जैसे बंजारे को घर
जैसे बंजारे को घर, जैसे बंजारे को घर
जैसे बंजारे को घर..जैसे बंजारे को घर..

Banjare ko ghar Song Lyrics in English

Advertisement

Jise zindagi dhoondh rahi hai
Kya ye woh makaam mera hai
Yahaan chain se bas ruk jaaun
Kyun dil ye mujhe kehta hai
Jazbaat naye se mile hain
Jaane kya asar ye huaa hai
Ik aas mili phir mujhko
Jo qubool kisi ne kiya hai

Haan…
Kisi shaayar ki ghazal
Jo de rooh ko sukoon ke pal
Koi mujhko yun mila hai
Jaise banjaare ko ghar
Naye mausam ki sehar
Yaa sard mein dopahar
Koi mujhko yun mila hai
Jaise banjare ko ghar
Hmm…

Jaise koi kinaara
Deta ho sahaara
Mujhe wo mila kisi mod par
Koi raat ka taara
Karta ho ujaala
Waise hi roshan kare woh shehar

Dard mere woh bhula hi gayaa
Kuch aisa asar huaa
Jeena mujhe phir se woh sikha raha

Hmm.. Jaise baarish kar de tar
Yaa marham dard par
Koi mujhko yun mila hai
Jaise banjare ko ghar
Naye mausam ki sehar
Yaa sard mein dopahar
Koi mujhko yun mila hai
Jaise banjaare ko ghar

Muskaata yeh chehra
Deta hai jo pehraa
Jaane chhupata kya dil ka samandar
Auron ko toh har dum saaya deta hai
Woh dhoop mein hai khada khud magar

Chot lagi hai usey,
Phir kyun mehsoos mujhe ho raha hai
Dil tu bata de kya hai iraada tera

Main parinda besabar
Tha uda jo darbadar
Koi mujhko yun mila hai
Jaise banjarey ko ghar
Naye mausam ki sehar
Yaa sard mein dopahar
Koi mujhko yun mila hai
Jaise banjarey ko ghar

Koi mujhko yun mila hai
(Jaise banjare ko ghar..)-4


Love To Share