देखा एक ख्वाब तो ये Dekha Ek Khwaab Toh Lyrics in Hindi

dekha ek khwaab lyrics
Image Credit: YRF
Love To Share

देखा एक ख्वाब तो ये सिलसिले हुए लिरिक्स Dekha Ek Khwaab Lyrics from SIlsila movie. Sung by Lata Mangeshkar and Kishore Kumar. Music composed by Shiv-Hari. Song is picturised on Amitabh Bachchan and Rekha.

Song Credits:
Song Title/गाना: देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए  dekhaa ek Khwaab to ye silsile hue
Movie:

Advertisement
सिलसिला Silsila(Year-1981)
Singer/गायक: किशोर कुमार Kishore Kumar, लता मंगेशकर Lata Mangeshkar
Music Director/संगीतकार: Shiv-Hari
Lyrics Writer/गीतकार: जावेद अख्तर Javed Akhtar
Star casts/अभिनीत किरदार: Amitabh Bachchan, Sanjeev Kumar, Shashi Kapoor, Jaya Bachchan, Rekha
Music Label: YRF

देखा एक ख्वाब तो लिरिक्स dekha ek khwaab to lyrics in hindi


बेहमो गुमान से दूर दूर
यकीन हद के पास पास
दिलको भरम ये हो गया
उनको हमसे प्यार है

हम्म.. हम्म..
देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए
दूर तक निगाहों में हैं गुल खिले हुए
देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए
दूर तक निगाहों में हैं गुल खिले हुए

आ.. आ..
ये ग़िला है आप की निगाहों से
फूल भी हों दर्मियां तो फ़ासले हुए
देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए
दूर तक निगाहों में हैं गुल खिले हुए

मेरी साँसों में बसी ख़ुशबू तेरी
ये तेरे प्यार की है जादुगरी

आ.. आ..
तेरी आवाज़ है हवाओं में
प्यार का रँग है फ़िज़ाओं में
धड़कनों में तेरे गीत हैं मीले हुए
क्या कहूँ के शर्म से हैं लब सिले हुए
देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए
फूल भी हों दर्मियां तो फ़ासले हुए

मेरा दिल है तेरी पनाहों में
आ छुपा लूँ मैं तुझे बाहों में
तेरी तस्वीर है निगाहों में
दूर तक रोशनी है राहों में

कल अगर ना रोशनी के काफ़िले हुए
प्यार के हज़ार दीप हैं जले हुए
देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए
दूर तक निगाहों में हैं गुल खिले हुए

आ..आ..
ये ग़िला है आप की निगाहों से
फूल भी हों दर्मियां तो फ़ासले हुए
देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए
दूर तक निगाहों में हैं गुल खिले हुए
आ.. आ.. हो..ओ..

Advertisement

Love To Share