Yeh To Sach Hai Ki Bhagwan Hai Lyrics Hindi – Hum Saath Saath Hain

Ye To Sach Hai Ki Bhagwan Hai Lyrics
Image Credits: Rajshri
Love To Share

ये तो सच है की भगवान है लिरिक्स Ye To Sach Hai Ki Bhagwan Hai Lyrics from Hum Saath Saath Hain. Sung by Hariharan. Raamlaxman has composed the music and lyrics penned by Ravindra Rawal. Song is picturised on Mohnish Behl, Alok Nath and Reema Lago.

Song Credits:
Song Title/गाना: ये तो सच है की भगवान है Yeh To Sach Hai Ki Bhagwan Hai
Movie/चित्रपट: हम साथ साथ हैं Hum Saath Saath Hain (Year-1999)
Singer/गायक: हरिहरन Hariharan, घनश्याम Ghanshyam, प्रतिमा राव Pratima Rao, संतोष तिवारी Santosh Tiwari
Music Director/संगीतकार: राम-लक्ष्मण Raamlaxman
Lyrics Writer/गीतकार: रविन्द्र रावल Ravindra Rawal
Star casts/अभिनीत किरदार: Karishma Kapoor, Saif Ali Khan, Salman Khan, Sonali Bendre, Tabu, Mohnish Behl, Alok Nath, Reema Lago
Music Label: Rajshri

Ye To Sach Hai Ki Bhagwan Hai Lyrics in Hindi

ये तो सच है के भगवान है
है मगर फिर भी अन्जान है
ये तो सच है के भगवान है
है मगर फिर भी अन्जान है
धरती पे रूप माँ-बाप का
उस विधाता की पेहचान है

जन्मदाता हैं जो, नाम जिनसे मिला
थामकर जिनकी उंगली है बचपन चला
हो ओ ओ..
कांधे पर बैठ के, जिनके देखा जहां
ज्ञान जिनसे मिला, क्या बुरा, क्या भला

इतने उपकार हैं क्या कहें
ये बताना ना आसान है
धरती पे रूप माँ-बाप का
उस विधाता की पेहचान है
ये तो सच है के भगवान है

जन्म देती है जो, माँ जिसे जग कहे
अपनी संतान में, प्राण जिसके रहे
हो ओ ओ..
लोरियां होंठों पर, सपने बुनती नज़र
नींद जो वार दे, हँस के हर दुःख सहे

ममता के रूप में है प्रभू
आपसे पाया वरदान है
धरती पे रूप माँ-बाप का
उस विधाता की पेहचान है
ये तो सच है के भगवान है

आपके ख्वाब हम, आज होकर जवां
उस परम शक्ति से, करते हैं प्रार्थना
हो ओ ओ..
इनकी छाया रहे, रहती दुनिया तलक
एक पल रह सकें हम न जिनके बिना

आप दोनों सलामत रहें
सबके दिल में ये अरमान है
धरती पे रूप माँ-बाप का
उस विधाता की पेहचान है

ये तो सच है के भगवान है
है मगर फिर भी अन्जान है
धरती पे रूप माँ-बाप का
उस विधाता की पेहचान है

Ye To Sach Hai Ki Bhagwan Hai Lyrics in English

Yeh to sach hai ki bhagwan hai
Hai magar phir bhi anjaan hai
Dharti pe roop maa-baap ka
Us vidhata ki pehchaan hai

Janmdaata hain jo, naam jinse mila
Thaamkar jinki ungli hai bachpan chala
Ho o o..
Kaandhe par baith ke, jinke dekha jahaan
Gyan jinse mila, kya bura, kya bhalaa

Itne upkaar hain kya kahen
Yeh batana na aasaan hai
Dharti pe roop maa-baap ka
Us vidhata ki pehchaan hai
Yeh to sach hai ki bhagwan hai

Janam deti hai jo, maa jise jag kahe
Apni santaan mein, pran jiske rahe
Ho o o..
Loriyan hothon par, sapne boonti nazar
Neend jo vaar de, hanske har dukh sahe

Mamta ke roop mein hai prabhu
Aapse paya vardaan hai
Dharti pe roop maa-baap ka
Us vidhata ki pehchaan hai
Yeh to sach hai ki bhagwan hai

Aapke khwaab hum, aaj hokar jawaan
Us param shakti se karte hain prarthna
Ho o o..
Unki chhaya rahe, rehti duniya talak
Ek pal reh sake hum na jinke bina

Aap dono salaamat rahe
Sabke dil mein yeh armaan hai
Dharti pe roop maa baap ka
Us vidhaata ki pehchaan hai

Yeh batana na aasaan hai
Dharti pe roop maa-baap ka
Us vidhata ki pehchaan hai
Yeh to sach hai ki bhagwan hai


Love To Share